इंटरनेट कैफे बिजनेस कैसे शुरू करें? Internet Cafe Business Plan in Hindi

इंटरनेट कैफे सुनते ही ना जाने कितनी यादें ताज़ा हो जाती हैं, हैं ना? पर क्या आप जानते हैं कि साइबर कैफे कैसे शुरू करें और कैसे इस बिजनेस से कमाई करें। इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें।

अगर हम कहें कि पिछले 20 सालों से इंटरनेट कैफ़े एक जाना-माना नाम है जो भारत क्या पूरे विश्व में लगभग एक-एक इंसान जानता ही है। आपको ऑनलाइन कोई भी काम हो आप इस 3G और 4G के ज़माने से पहले लगभग साइबर कैफ़े ही जाते होंगे, आज भी नौकरी के फॉर्म, महत्वपूर्ण दस्तावेज को जमा कराने और अपने दूसरे कामों से लोग साइबर कैफ़े (इंटरनेट कैफे) जाते ही हैं।

अगर आप अपना साइबर कैफे या कोई अन्य बिज़नेस सही रूप से मैनेज करना चाहते हैं तो नीचे दी हुयी बटन से Lio App डाउनलोड करें।

अगर इतिहास की बात करें तो साल 1994 में प्रीतिश नंदी, एक प्रसिद्ध कवि, फिल्म निर्माता और राजनीतिज्ञ ने मुंबई के होटल लीला केम्पिंस्की में पहला साइबर कैफे खोला था और तभी से भारत में इसकी शुरुआत हुयी और आज यह शानदार बिज़नेस आईडिया में से एक है।

आपके इंटरनेट कैफे का मैनेजर

Lio App में है रेडीमेड टेम्पलेट्स जहाँ आप अपने साइबर कैफ़े का पूरा मैनेजमेंट आसानी से कर सकते हैं वो भी अपनी ज़रूरत के हिसाब से।

वो भी फ्री में

इंटरनेट कैफे क्या है | What Is Internet Cafe In Hindi?

बात करें इंटरनेट कैफ़े की तो यह लोगों के लिए उच्च गति (High-Speed) के इंटरनेट वाले कंप्यूटर प्रदान करता है। आमतौर पर इंटरनेट कैफ़े में ग्राहक से मिनट या घंटे के हिसाब से शुल्क लिया जाता है, और कई इंटरनेट कैफे में तो ग्राहक के लिए मासिक पास की भी सुविधा है। आज के दौर के साइबर कैफे में खाने-पीने के आइटम भी रहते हैं ताकि ग्राहक और ज्यादा आकर्षित हो।

वैसे तो साइबर कैफे में बहुत से लोग मल्टी-प्लेयर गेमिंग के लिए आते हैं, लेकिन आम तौर पर साइबर कैफे इंटरनेट सर्फिंग के लिए बना था। कैफ़े का मूल उद्देश्य ईमेल देखना और करना, रिसर्च करना, या वर्ल्ड वाइड वेब में काम करना है।

आज के दौर में इंटरनेट कैफ़े के उपयोग बदल चुके हैं, लोग अब इंटरनेट कैफे इंटरनेट चलाने, गेम खेलने, सोशल मीडिया पर चैटिंग करने या किसी ऐसे काम से नहीं जाते बल्कि अब छात्र (Students) अपनी परीक्षा का फॉर्म भरने या सरकारी परीक्षाओं का फॉर्म भरने, महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट जैसे पैन कार्ड, आधार कार्ड, लाइसेंस बनवाने या ऐसे अन्य कामों की वजह से ज्यादा जाते हैं।

आज के दौर में सबके पास अपने-अपने मोबाइल में हाई-स्पीड इंटरनेट आ चुका है, और बहुत से लोगों ने तो अब वाई-फाई लगवा लिया है जिससे उन्हें स्पीड के साथ-साथ अनलिमिटेड इंटरनेट डाटा भी मिलता है। 

खैर, कितने ही ज़माने बदल जाएँ इंटरनेट कैफ़े जैसा बिसनेस हमेशा सफल रहता है। हमने इस ब्लॉग में नीचे इंटरनेट कैफे बिजनेस कैसे शुरू करें और क्या प्लान बनाएं जिससे आपका यह बिज़नेस सदाबहार रहे इसकी जानकारी सविस्तार दी है। 

साइबर कैफ़े किसके लिए है?

कुछ लोगों को इंटरनेट कैफ़े की ज़रूरत बहुत ज्यादा होती है। हमने नीचे इस लेख में उन सभी लोगों के बारे में और उनकी कैफे की उपयोगिता के बारे में सविस्तार बताया है। 

ये हैं Lio App की केटेगरी(बाएं) और रेडीमेड टेम्पलेट्स(दाएं)

आपका पर्सनल लाइफ मैनेजर

Lio App में आप सिर्फ अपना साइबर कैफे बिज़नेस ही नहीं बल्कि रोज़मर्रा के लाइफ के सभी डाटा को आसानी से मैनेज कर सकते हैं।

वो भी फ्री में

यूट्यूबर

वैसे तो आज का दौर टेक्नोलॉजी का है और हर एक युवा और अन्य उम्र के लोगों के पास स्मार्टफोन है लेकिन फिर भी अगर कोई एक यूट्यूबर हैं या बनना चाहता है और उसके पास इंटरनेट नहीं है तो ऐसी स्थिति में वो किसी भी इंटरनेट कैफे जा सकता है। 

टीचर/शिक्षक 

आज कल छात्रों के अलावा शिक्षकों को भी इंटरनेट कैफ़े का बहुत काम होता है। जैसे पेपर बनाना, पेपर प्रिंट करवाना, रिसर्च करना आदि अब किसी शिक्षक के पास यदि घर पर पर्याप्त सुविधाएं नहीं हैं तो ऐसे में वो आराम से साइबर कैफे में आकर अपना काम कर सकता है। 

गेमर

गेम हमेशा से ही युवाओं और बच्चों के लिए आकर्षण का केंद्र रहे हैं, अगर कोई ऑनलाइन गेम खेलता है या गेमर है तो वो इंटरनेट कैफ़े में जाकर आसानी से गेम खेल सकता है। 

छात्र 

छात्रों को ही इंटरनेट कैफे की सबसे ज्यादा ज़रूरत पड़ती है। कोई पेपर निकलवाना हो, फॉर्म भरना हो, रिजल्ट देखना हो, प्रिंटआउट करवाना हो, फोटोकॉपी करवाना हो या कुछ और छात्र हमेशा साइबर कैफे की ओर ही जाते हैं। 

इंटरनेट कैफ़े शुरू करने से पहले रखें इन 5 बातों का ध्यान | 5 Tips To Start An Internet Cafe

आप यह तो जानते ही होंगे कि कोई भी बिज़नेस बिना किसी प्लान के शुरू नहीं किया जा सकता है, इसीलिए आज इस ब्लॉग में हमने आपके लिए इंटरनेट कैफ़े के लिए एक आसान प्लान बनाया है। अंत तक ज़रूर पढ़ें। 

इंटरनेट कैफ़े प्लान बनाएं 

इंटरनेट कैफे बिज़नेस को शुरू करने से पहले आपको एक प्लान की आवश्यकता होगी, प्लान में आपको अपने साइबर कैफे से जुड़ी सारी बातें लिखनी होगी। जैसे आप अपने ग्राहकों की बैठने की व्यवस्था क्या करने वाले हैं, आपके कैफ़े में कितने कंप्यूटर आदि होंगे, आप इंटरनेट सुविधाओं के अलावा और कौनसी सुविधा प्रदान करेंगे। 

बिज़नेस प्लान इसिलए भी ज़रूरी है क्योंकि इस प्लान की मदद से आप आगे की रूपरेखा, फाइनेंस, लोकेशन आदि को बहुत अच्छे से विचार करके प्लान कर सकते हैं। 

डाटा कोई भी हो ऐप यही है..

लाइफ के सभी डाटा मैनेज करो Lio App में और अपनी टीम को अपनी डाटा शीट में जोड़ें आसानी से या शेयर करें WhatsApp, SMS या Email के ज़रिए।

वो भी फ्री में

जगह का चुनाव करें 

साइबर कैफे शुरू करने के लिए जगह का चुनाव बहुत ज्यादा आवश्यक है, अगर आप अपने इंटरनेट कैफे की सर्विस के अनुसार ऐसी जगह ढूंढते हैं जहाँ ज्यादा लोग रहते हो तो आपका बिज़नेस सफल होगा ही।

हालाँकि, अगर आपके पास खुद की जगह है तो सबसे बढ़िया है लेकिन अगर आपके पास खुद की जगह नहीं है तो आपको जगह किराये से लेनी होगी। साइबर कैफे के लिए सबसे अच्छी लोकेशन वो होगी जहाँ आसपास स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, संस्थान, होटल या होसटल आदि हो क्योंकि ज्यादातर आपके ग्राहक इन्हीं स्थानों से आएंगे। 

अपने साइबर कैफ़े को एक नाम दें 

अगर आप अपने इंटरनेट कैफ़े पर लोगों को आकर्षित करना चाहते हैं तो आपको अपने इंटरनेट कैफे को एक अच्छा सा नाम देना होगा। आज के दौर में एक अच्छा और आकर्षक नाम होना बहुत ज़्यादा ज़रूरी है क्योंकि यह नाम आपके ग्राहकों को आकर्षित करेगा। 

साथ ही आज का दौर ऑनलाइन का है तो अगर आप अपने कैफे को ऑनलाइन ले जाना चाहते हैं तो एक अच्छी वेबसाइट और सोशल मीडिया पेज के लिए आपको एक अच्छा नाम सोचना ही होगा ताकि आपका डोमेन नाम सबसे अलग और आकर्षक रहे। 

साइबर कैफे का रजिस्ट्रेशन

किसी भी बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन करवाना बहुत ज़रूरी होता है, इसीलिए साइबर कैफे का रजिस्ट्रेशन काफी महत्वपूर्ण होता है। जैसे ही आप अपने इंटरनेट कैफे का नाम सोच लेते हैं और जगह निर्धारित कर लेते हैं उसके बाद आपको अपने साइबर कैफे का रजिस्ट्रेशन करवाना बहुत ज़रूरी है। 

किसी भी बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन करवाना इसलिए भी ज़रूरी होता है क्योंकि रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद सरकारी प्रक्रिया में आपका बिज़नेस कभी भी बाधा नहीं बनता है और आपको या आपके बिज़नेस को कोई भी सरकारी ऑफिस से या सरकारी अफसर की ओर से कोई परेशानी नहीं आती है। 

साइबर कैफे के सामान की खरीद

सबसे पहले अगर बुनियादी चीज़ों की बात करें तो साइबर कैफे में आपको इंटरनेट यूजर की समय सीमा का ध्यान रखने आपको इंटरनेट कैफे में किसी टूल की आवश्यकता होगी, इसके बाद आपको कुछ कंप्यूटर जो की पूरी तरह से तैयार होने चाहिए जैसे की-बोर्ड, माउस, सी.पी.यू, हार्ड-डिस्क, यूपीएस इत्यादि की आवश्यकता होगी।

साथ ही इन सबके बाद आपको एक हाई-स्पीड इंटरने, एक मास्टर सर्वर कंप्यूटर जहाँ से बाकी सभी ग्राहक कंप्यूटर कण्ट्रोल होंगे एक राउटर, नेटवर्क केबल, एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP), कुछ कुर्सियां, वर्कस्टेशन टेबल, कानूनी लाइसेंसिंग और हाँ साथ ही कुछ लोग आपके कर्मचारी के तौर पर जो कुछ छोटी बड़ी समस्याएं हल कर पाएं और साथ ही ग्राहक को जो भी चाहिए उसमें मदद कर पाएं।

आपका डाटा आपकी भाषा

Lio App में 10 भारतीय भाषाएं जो आपका बिज़नेस और डाटा मैनेजमेंट और भी ज्यादा आसान बनाती हैं।

वो भी फ्री में

साइबर कैफे का रजिस्ट्रेशन कहाँ और कैसे होगा?

इंटरनेट कैफे शुरू करने के लिए आपको केंद्र या राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित पंजीकृत एजेंसी में अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है। आम तौर पर साइबर कैफे के रजिस्ट्रेशन की शक्ति जिलाधिकारी (DM) के कार्यालय या किसी विशेष जिले के पुलिस आयुक्त के कार्यालय को दी जाती है। यह पंजीकरण एजेंसी आपको एक विशिष्ट पहचान संख्या (UIN) जारी करेगी।

रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

साइबर कैफे पंजीकरण फॉर्म – इसमें साइबर कैफे का नाम, पता, फोन नंबर, ईमेल और कैफे द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवा से संबंधित सभी डिटेल शामिल होगी।

  • बिजनेस के प्रकार – एकल स्वामित्व या साझेदारी या कंपनी या समाज
  • इंटरनेट कैफे मालिक/निदेशक/पार्टनर का नाम और उनके आईडी प्रूफ की फोटोकॉपी 
  • दुकान रजिस्ट्रेशन डाक्यूमेंट्स या रेंटल एग्रीमेंट या शॉप ओनरशिप पेपर्स के लीज एंड लाइसेंस एग्रीमेंट की फोटोकॉपी
  • स्थापना और प्रक्रिया के प्रमाण के लिए कोई अन्य दस्तावेज
  • जगह के मालिक से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC)
  • रजिस्ट्रेशन एजेंसी उपयुक्त सरकार के नियमों और दिशानिर्देशों का पालन करेगी। एजेंसी मालिक को लाइसेंस देने से पहले एक व्यक्ति को साइबर कैफे जाने के लिए भेजेगी।

साइबर कैफे की सभी डिटेल्स एजेंसी की वेबसाइट पर उपलब्ध होगी। साइबर कैफे के रजिस्ट्रेशन के लिए हर राज्य की अपनी अलग वेबसाइट है जहाँ पर जाकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है। 

इंटरनेट कैफे बिज़नेस की लागत

साइबर कैफे का मुख्य निवेश कंप्यूटर और उनसे जुड़े टूल्स में होता है। और अगर लागत की बात की जाए तो यह आप पर निर्भर है कि आप साइबर कैफे का साइज कितना बड़ा रखना चाहते हैं।

यदि आप छोटे से शुरू करना चाहते हैं तो आपको कम से कम 7 – 8 कंप्यूटर की व्यवस्था करनी होगी, और आज के दौर में 8 कंप्यूटर की लागत लगभग 1,60,000 के आसपास होगी। यदि साइबर कैफे की अन्य चीज़ों को भी जोड़ा जाए जैसे प्रिंटर, स्कैनर और कुर्सी आदि तो आपके इंटरनेट कैफे का खर्च करीब 2,20,000 रुपये तक हो जाता है।

लगभग 2 लाख खर्च करने के बाद साइबर कैफे की सारी जरूरतें पूरी हो जाती हैं; इसके बाद अगर आप कुछ और खर्च करना चाहते हैं, तो आप कमरे में एसी, कैमरे आदि भी लगा सकते हैं, लेकिन यह ज़रूरी नहीं है; यहाँ एक बात ध्यान देने योग्य है कि बाजार से बने कंप्यूटर लेने के बजाय अलग-अलग कंप्यूटर के पुर्जे खरीदकर उन्हें असेंबल करने से कंप्यूटर की कीमत थोड़ी कम हो सकती है, इस तरह प्रत्येक कंप्यूटर में 3000 रुपये तक का अंतर देखा जा सकता है।

इंटरनेट कैफे बिजनेस से जुड़ी कुछ जरूरी बातें

साइबर कैफे बिजनेस के पीछे एक आम धारणा यह है कि इस बिज़नेस में आपको केवल कुछ कंप्यूटर, कुर्सियाँ, एक बड़ा कमरा और एक तेज़ इंटरनेट की आवश्यकता होती है, लेकिन यह सिर्फ आधी बातें हैं। हमने नीचे कुछ महत्वपूर्ण बातें लिखी हैं जो आपको साइबर कैफे बिज़नेस में काम आएगी। 

  • साइबर कैफे में उपयोग के लिए कोई भी सिस्टम देने से पहले यूजर का पहचान पत्र अपने पास रखें।
  • अगर कभी कोई ऐसा यूजर होता है जिसके पास पहचान पत्र नहीं होता है तो ऐसी स्थिति में आप उस यूजर के वेब कैमरे की तस्वीर लेकर अपने इंटरनेट कैफे के रिकॉर्ड में रखिये।
  • साइबर कैफे के मालिक के तौर पर आपके पास एक लॉग रजिस्टर होना चाहिए जिस पर आप सभी यूजर के नाम, पते, फोन नंबर आदि लिख सकें।
  • आपको इस लॉग रजिस्टर की सॉफ्ट कॉपी बनाकर हर महीने की 5 तारीख को लाइसेंसिंग एजेंसी के पास जमा करानी होगी। 
  • नाबालिग साइबर कैफे में तभी जा सकेंगे, जब उनके साथ माता-पिता होंगे, यह उनके करीबी रिश्तेदार हैं।
  • क्यूबिकल की ऊंचाई कम से कम 5 फीट होनी चाहिए और सभी कंप्यूटरों की स्क्रीन खुले वातावरण में होनी चाहिए।
  • एक मालिक के तौर पर आपकी यह जिम्मेदारी है कि आप अपने इंटरनेट कैफे की इस तरह की व्यवस्था करे कि कोई भी व्यक्ति अश्लील सामग्री, आतंकवादी गतिविधियों और आपत्तिजनक सामग्री तक ना पहुंच सके।

बिज़नेस के रेडीमेड रजिस्टर हैं यहाँ..

बिज़नेस कोई भी हो 100 से ज्यादा रेडीमेड टेम्पलेट्स हैं इस Lio App में, चुनिए अपनी टेम्पलेट और मैनेज करिये अपना इंटरनेट कैफे बिज़नेस आसानी से अपने मोबाइल पर।

वो भी फ्री में

क्या साइबर कैफे अभी भी एक सफल बिजनेस है?

सफल बिज़नेस की परिभाषा एकदम आसान है, जो बिज़नेस आपको साल के 365 दिन कमाई देता हो और जिसमें आगे बढ़ने की क्षमता हो वो सफल बिज़नेस की श्रेणी में आता है। तो – हाँ, साइबर कैफे का बिज़नेस एक सफल बिज़नेस है और आज भी यह सफल है।

एक बार साइबर कैफे शुरू करने का आईडिया आपके दिमाग में आता है, तो पहला सवाल यह है कि “इंटरनेट कैफे शुरू करने में कितना खर्च आएगा?” तो हमने पहले ही बताया है कि आपको लगभग 2 से 2.5 लाख तक लागत लगेगी अगर आप आज की तारिख में साइबर कैफ़े शुरू करते हैं। 

अगर हम इससे प्रॉफिट की बात करें तो आप अगर अच्छी लोकेशन में अपने साइबर कैफे के साथ बैठे हो तो आप आराम से 30-40 हज़ार कमा सकते हैं। इन आंकड़ों की वजह से ही यह साइबर कैफे बिज़नेस सफल बिज़नेस आईडिया कहलाता है। 

Lio App आपकी साइबर कैफे में कैसे मदद कर सकता है?

अगर आपने सोच लिया है कि आप एक इंटरनेट कैफे ही शुरू करेंगे या आप पहले से एक साइबर कैफे के मालिक हैं तो हम आपको बता दें कि Lio App आपके बिज़नेस के लिए सर्वश्रेष्ठ टूल है। 

 Lio App एक डाटा मैनेजमेंट टूल हैं जिसमें आपको 20 से ज्यादा केटेगरी मिलती हैं और उन केटेगरी में आपको शानदार रेडीमेड टेम्पलेट्स मिलती हैं जो आपके बिज़नेस का मैनेजमेंट आसान बनाती हैं। रेडीमेड टेम्पलेट्स की बात करें तो आपको कैश रजिस्टर, इनकम रजिस्टर, टाइम ट्रैकर रजिस्टर, उधार रजिस्टर, खर्च रजिस्टर ऐसे लगभग 100 से ज्यादा रजिस्टर हैं जो पहले से रेडीमेड हैं।

Lio App में हिंदी, इंग्लिश, मराठी, गुजरती, बंगाली जैसी कुल 10 भारतीय भाषाएं हैं, जो आपका इंटरनेट कैफे बिज़नेस और डाटा मैनेजमेंट काफी आसान बनाती हैं।

इसके अलावा Lio App में ऐसे बहुत से फीचर हैं जो आपकी लाइफ और आपका बिज़नेस दोनों का मैनेजमेंट काफी हद तक आसान बना देते हैं। 

अगर आपने Lio App अभी तक डाउनलोड नहीं किया है तो अभी करें – 

Step 1: अपनी पसंद की भाषा चुनें जिसमें आप आगे बढ़ना चाहते हैं | Lio Android Mobile Ke Liye

Choose from 10 Different Language offered by Lio in hindi

Step 2: Lio में फ़ोन नं. या ईमेल द्वारा आसानी से अपना अकॉउंट बनाएं। 

Create Account using your Phone Number or Email Id in Lio in hindi

जिसके बाद मोबाइल में OTP आएगा वो डालें और गए बढ़ें।

Step 3: अपने काम के हिसाब से टेम्पलेट चुनें और डाटा जोड़ें। 

Choose from 60+ Templates offered by Lio And Start Adding Your Data in hindi

Step 4: इन सब के बाद आप चाहें तो अपना डाटा शेयर करें। 

Share you files with friends and colleagues in hindi

अक्सर पूछे जाने प्रश्न (FAQs)

इंटरनेट कैफे का मतलब क्या होता है?

एक साइबर कैफे पूरी तरह से ऑनलाइन कामों के लिए स्थापित होता है। दुनिया के हर साइबर कैफे में हाई-स्पीड इंटरनेट ब्रॉडबैंड होता है जिसे कोई भी उपयोग कर सकता है और अपना ऑनलाइन काम कर सकता है। यूजर को फीस के तौर पर घंटे के हिसाब साइबर कैफे के मालिक को पैसे देने होते हैं।

साइबर कैफे खोलने में कितना खर्च आएगा?

अगर आपके पास अपनी जगह है तो आपको एक साइबर कैफे शुरू करने में आपको कम से कम 50 हज़ार से 2.5 लाख रूपए का खर्च आएगा।

साइबर कैफे खोलने के लिए क्या करना पड़ता है?

अगर आप एक इंटरनेट कैफे शुरू करना चाहते हैं तो आपको –
1. सबसे पहले एक जगह चुनना होगा
2. उसके बाद कैफे का नाम सोचना होगा
3. फिर जगह और नाम के बाद आपको अपने साइबर कैफे को रजिस्टर करवाना होगा।
4. रजिस्ट्रेशन के बाद आपको अपने साइबर कैफे के लिए लगने वाले टूल्स जैसे कंप्यूटर, इंटरनेट, कुर्सियां, टेबल इत्यादि लेना होगा।
मुख्यतः साइबर कैफे खोलने के लिए आपको इन चरणों का पालन करना होगा।

साइबर कैफे कितना कमाता है?

साइबर कैफे के मालिक आज के दौर में भी महीने का 20 से 40 हज़ार तक कमा लेते हैं और कई अच्छी लोकेशन के कैफे तो 60 हज़ार से ज्यादा भी कमाते हैं।

और अंत में 

जैसा कि आपने पढ़ा, कैसे किसी अन्य बिज़नेस की तरह साइबर कैफे की भी अपनी ख़ासियतें और आवश्यकताएं हैं। एक साइबर कैफे बिज़नेस के मालिक के रूप में आपके लिए यह बहुत आवश्यक है कि आपके पास एक पूरा प्लान तैयार हो। महत्वपूर्ण और रणनीतिक मुद्दों पर ध्यान दें, विशेष रूप से उन इंटरनेट कैफे के मुद्दों पर जिनमें काफी निवेश की आवश्यकता होती है और जिन्हें आसानी से नहीं बदला जा सकता है, जैसे अपने साइबर कैफे की लोकेशन और उसमें लगने वाले महंगे उपकरण।

एक साइबर कैफे मालिक के रूप में आपकी जिम्मेदारी अपने बिज़नेस को सही ढंग से चलाना है और उसका बेहतर ढंग से मैनेजमेंट करना है। अपने साइबर कैफे को बेहतर ढंग से मैनेज करने के लिए Lio App का प्रयोग करें। Lio App आपको कार्यप्रवाह में सुधार करने में मदद करेगा, साथ ही साथ सभी कार्यों और इंटरनेट कैफे बिज़नेस के विकास पर नज़र रखेगा।

Download Lio App

About the author

Gaurav Jain

Being a copywriter, Gaurav Jain has spent 5 years of his professional life in commercial writing. He aspire to become one of the renowned copywriters around.
Gaurav Jain lives in Bhilai, Chhattisgarh with his family. He believes in going with the flow of life as it's only your doings that makes you, nothing else can.

Add comment

By Gaurav Jain